शारीरिक शुद्धता के साथ ही मन की पवित्रता का भी ध्यान रखना चाहिए। जम्मू कश्मीर : पुत्रदा एकादशी का व्रत हर वर्ष पौष माह शुक्ल पक्ष की एकादशी को रखा जाता है। पुत्रदा एकादशी व्रत के विषय में श्रीकैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत रोहित शास्त्री (ज्योतिषाचार्य) […]

जम्मू कश्मीर : अमावस्या माह में एक बार ही आती है। अमावस्या तिथि के स्वामी पितृदेव है। पौष कृष्ण पक्ष अमावस्या इस वर्ष सन् 2022 ई. 23 दिसंबर शुक्रवार को पड़ रही है। पौष अमावस्या के विषय में श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत रोहित शास्त्री […]

अपनी राशि के अनुसार शिव पूजा,दान एवं मंत्र जाप करें शिव की आराधना इच्छा-शक्ति को मजबूत करती है और अन्तःकरण में अदम्य साहस व दृढ़ता का संचार करती है। जम्मू कश्मीर : ज्योतिष शास्त्र के दृष्टिकोण से चतुर्दशी तिथि के स्वामी भगवान भोलेनाथ अर्थात स्वयं शिव ही हैं और हर […]

पंचांग के अनुसार सन् 2023 ई. में विवाह मुहूर्त इस प्रकार है :- जम्मू कश्मीर : ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गुरू और शुक्र तारा उदय हो एवं शुभ मुहूर्त में ही विवाह आदि मांगलिक कार्य सम्पन्न किए जाते है,इस विषय में श्रीकैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत […]

जम्मू कश्मीर : पौष मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी का व्रत सन् 2022 ई.19 दिसंबर सोमवार को है। एकादशी व्रत के विषय में श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट के प्रधान महंत रोहित शास्त्री ज्योतिषाचार्य ने बताया कि एक वर्ष में 24 एकादशी होती हैं,लेकिन जब तीन साल […]

मार्गशीर्ष रात्रि पूर्णिमा व्रत 07 दिसंबर बुधवार को और मार्गशीर्ष दिवा पूर्णिमा व्रत 08 दिसंबर गुरुवार को। जम्मू कश्मीर : मार्गशीर्ष पूर्णिमा सनातन धर्म में विशेष महत्व रखती है,मार्गशीर्ष पूर्णिमा के विषय में श्रीकैलख ज्योतिष एवं वैदिक ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत रोहित शास्त्री ने बताया कि मार्गशीर्ष माह के शुक्ल […]

जम्मू कश्मीर : पिशाचमोचन श्राद्ध के विषय में श्रीकैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत रोहित शास्त्री ज्योतिषाचार्य ने बताया कि मार्गशीर्ष शुक्ल चतुर्दश के दिन पिशाचमोचन श्राद्ध किया जाता है और इस वर्ष 06 दिसंबर सन् 2022 ई. मंगलवार को किया जायेगा,इस दिन पितरों के निमित्‍त दान […]

जम्मू कश्मीर :- मार्गशीर्ष महीना बहुत पवित्र माना जाता है। मार्गशीर्ष मास लगते ही मनुष्य को स्नान आदि करके शुद्ध रहना चाहिए। इंद्रियों को वश में कर काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार, ईर्ष्या तथा द्वेष आदि का त्याग कर भगवान का स्मरण करना चाहिए। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियां होती हैं, […]

इस दिन भगवान श्रीराम और माता सीता का विवाह कराने से ऐसे जातकों की समस्याएं दूर हो जाती हैं, जिनकी शादी में अड़चनें आ रही हैं। जम्मू कश्मीर :- श्रीरामचरितमानस में इस बात का उल्लेख किया किया गया है कि मार्गशीर्ष मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को भगवान श्रीराम […]

Breaking News