Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/kuldevscc/public_html/jknewsupdates.com/wp-content/themes/default-mag/assets/libraries/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

शीतलाष्टमी व्रत 25 मार्च शुक्रवार को :-महंत रोहित शास्त्री।
शीतलाष्टमी का व्रत रोगों से मुक्ति दिलाता है।

जम्मू कश्मीर : शीतलाष्टमी व्रत सन् 2022 ई. 25 मार्च शुक्रवार को है। शीतलाष्टमी व्रत के विषय में श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत रोहित शास्त्री ने बताया शीतलाष्टमी का व्रत माता शीतला जी को समर्पित है। पंचांग के अनुसार, प्रति वर्ष शीतला अष्टमी का व्रत चैत्र माह कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को होता है। इस वर्ष चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि का प्रारंभ 24 मार्च को देर रात 11 बजकर 09 मिनट पर हो रहा है, इस तिथि का समापन 25 मार्च को रात 10 बजकर 04 मिनट पर होगा।सूर्योदय व्यापिनी तिथि के आधार पर शीतला अष्टमी का व्रत या बसोड़ा 25 मार्च शुक्रवार को है। इस व्रत को बसौड़ा के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन माता शीतला जी को बासी भोजन का भोग लगाया जाता है। सप्तमी को माता का भोग तैयार करके कल 25 मार्च शुक्रवार को माता शीतला जी को अर्पित करे।
माता शीतला जी को बासी भोजन का भोग लगाएं। उन्हें फूल,नीम के पत्ते और इत्र चढ़ाएं। कपूर से आरती करें और ऊं शीतला मात्रै नम: का जाप करें।
मान्यता है कि शीतला अष्टमी के दिन घर में चूल्हा नहीं जलाया जाता,साथ ही ये अष्टमी ऋतु परिवर्तन का संकेत देती है. इस बदलाव से बचने के लिए साफ-सफाई का पूर्ण ध्यान रखना होता है. साथ ही यह भी माना जाता है पूजन का शुभ मुहूर्त 25 मार्च शुक्रवार सुबह 06:32 से शाम 06:41 तक रहेगा।

शीतला अष्टमी के बाद से ग्रीष्मकाल की शुरूआत हो जाती है। माता शीतला जी ग्रीष्मकाल में शीतलता प्रदान करती हैं इसलिए उनको शीतल देने वाली माता कहा गया है। शीतला माता की पूजा करने से दाहज्वर, पीतज्वर, चेचक, दुर्गन्धयुक्त फोडे, नेत्र विकार आदि रोग भी दूर होते हैं। यह व्रत रोगों से मुक्ति दिलाता है।

शीतला माता की आरती

जय शीतला माता, मैया जय शीतला माता,
आदि ज्योति महारानी सब फल की दाता।।
ऊं जय शीतला माता।
रतन सिंहासन शोभित, श्वेत छत्र भ्राता।
ऋद्धिसिद्धि चंवर डोलावें, जगमग छवि छाता।।
ऊं जय शीतला माता।
विष्णु सेवत ठाढ़े, सेवें शिव धाता।
वेद पुराण बरणत पार नहीं पाता।।
ऊं जय शीतला माता।
इन्द्र मृदंग बजावत चन्द्र वीणा हाथा।
सूरज ताल बजाते नारद मुनि गाता।।
ऊं जय शीतला माता।
घंटा शंख शहनाई बाजै मन भाता।
करै भक्त जन आरति लखि लखि हरहाता।।
ऊं जय शीतला माता।
ब्रह्म रूप वरदानी तुही तीन काल ज्ञाता,
भक्तन को सुख देनौ मातु पिता भ्राता।।
ऊं जय शीतला माता।
जो भी ध्यान लगावैं प्रेम भक्ति लाता।
सकल मनोरथ पावे भवनिधि तर जाता।।
ऊं जय शीतला माता।
रोगन से जो पीडित कोई शरण तेरी आता।
कोढ़ी पावे निर्मल काया अन्ध नेत्र पाता।।
ऊं जय शीतला माता।
बांझ पुत्र को पावे दारिद कट जाता।
ताको भजै जो नाहीं सिर धुनि पछिताता।।
ऊं जय शीतला माता।
शीतल करती जननी तुही है जग त्राता।
उत्पत्ति व्याधि विनाशत तू सब की घाता।।
ऊं जय शीतला माता।
दास विचित्र कर जोड़े सुन मेरी माता ।
भक्ति आपनी दीजै और न कुछ भाता।।
ऊं जय शीतला माता।

महंत रोहित शास्त्री (ज्योतिषाचार्य) अध्यक्ष श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट (पंजीकृत) संपर्कसूत्र :-9858293195,7006711011,9796293195

Editor JK News Updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

गुरु उदय (तारा चढ़ेगा) 26 मार्च शनिवार को :- महंत रोहित शास्त्री ज्योतिषाचार्य।

Thu Mar 24 , 2022
विवाह-अन्य मांगलिक कार्यो के शुभ मुहूर्त के लिए अब नहीं करना होगा इंतजार। आइए जानते हैं इस वर्ष कब कब है विवाह के शुभ मुहूर्त। जम्मू कश्मीर : ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गुरू और शुक्र तारा उदय हो एवं शुभ मुहूर्त में ही विवाह आदि मांगलिक कार्य सम्पन्न किए जाते […]

Breaking News

%d bloggers like this: