Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/kuldevscc/public_html/jknewsupdates.com/wp-content/themes/default-mag/assets/libraries/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

वैशाख पूर्णिमा (श्रीबुद्ध -पूर्णिमा) का व्रत करने से अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता :- महंत रोहित शास्त्री ज्योतिषाचार्य।

वैशाख रात्रि पूर्णिमा व्रत 15 मई रविवार।

वैशाख दिवा पूर्णिमा व्रत 16 मई सोमवार को।

जम्मू कश्मीर : वैशाख पूर्णिमा सनातन धर्म में विशेष महत्व रखती है,वैशाख पूर्णिमा के विषय में श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट के प्रधान महंत रोहित शास्त्री ज्योतिषाचार्य ने बताया वैशाख माह शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि 15 मई रविवार दोपहर 12 बजकर 45 मिनट पर शुरू होगी और 16 मई सोमवार सुबह 09 बजकर 45 मिनट पर समाप्त होगी। जो भक्तजन रात्रि पूर्णिमा का व्रत रखते हैं वह 15 मई रविवार को रखे और जो भक्तजन दिवा पूर्णिमा का व्रत करते हैं वह 16 मई सोमवार को रखे,इस दिन भगवान विष्णु के स्वरूप श्रीसत्यनारायण जी का पूजन किया जाता है और भगवान श्रीसत्यनारायण जी की कथा पढ़ना अथवा सुनना या पूजा करवाना बेहद शुभ होता है। पूर्णिमा तिथि के दिन भगवान श्रीगणेश जी, माता पार्वती, भगवान शिव और चंद्रमा की पूजा का भी विशेष महत्व है।

शास्त्रों के अनुसार इस दिन किसी भी प्रकार की तामसिक वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए,ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए,इस दिन शराब आदि नशे से भी दूर रहना चाहिए। इसके शरीर पर ही नहीं, आपके भविष्य पर भी दुष्परिणाम हो सकते हैं,इस दिन सात्विक चीजों का सेवन किया जाता है।

इस दिन तीर्थ स्थलों पर स्नान करने से जन्मों के पाप से मुक्ति मिलती है, इस दिन गंगा स्‍नान का भी विशेष महत्‍व है। यह पूर्णिमा बौध धर्म के अनुयायियों के लिए सबसे बड़ा दिन माना जाता है,बुद्ध पूर्णिमा को बुद्ध जी की जयंती मनाई जाती है, बुद्ध पूर्णिमा हर साल वैशाख महीने की पूर्णिमा को मनाई जाती है। इस दिन भगवान विष्णु ने अपने 9वां अवतार लिया था,ये अवतार भगवान बुद्ध के नाम से लोकप्रिय है इतना ही नहीं इसी दिन भगवान बुद्ध ने मोक्ष प्राप्त किया था,इस दिन को लोग सत्य विनायक पूर्णिमा के तौर पर भी मनाते हैं,बताया जाता है कि इस दिन सच्चे मन से व्रत करने से गरीबी दूर होती है और घर में सुख समृद्धि आती है इस दिन कई धर्मराज गुरु की पूजा भी करते हैं मान्यता है कि इस दिन व्रत करने से धर्मराज गुरु खुश होते है और लोगों को अकाल मृत्यु का डर नहीं होता, भगवान श्री कृष्ण ने अपने यार सुदामा (ब्राह्मण सुदामा) को भी इसी व्रत का विधान बताया था जिसके पश्चात उनकी गरीबी दूर हुई।

इस दिन व्रती को जल से भरे घड़े सहित पकवान आदि भी किसी जरूरतमंद को दान करने चाहिये। स्वर्णदान का भी इस दिन काफी महत्व माना जाता है।

इस दिन भगवान विष्णु जी की पूजा करनी चाहिये,रात्रि के समय दीप, धूप, पुष्प, अन्न, गुड़ आदि से पूर्ण चंद्रमा की पूजा करनी चाहिये और जल अर्पित करना चाहिये। तत्पश्चात किसी योग्य ब्राह्मण को जल से भरा घड़ा दान करना चाहिये। ब्राह्मण या किसी जरूरतमंद को भोजन करवाने के पश्चात ही स्वयं अन्न ग्रहण करना चाहिये,इस दिन किए गए अच्छे कार्यों से पुण्य की प्राप्ति होती है,पक्षियों को पिंजरे से मुक्त कर खुले आकाश में छोड़ा जाता है,गरीबों को भोजन व वस्त्र दिए जाते हैं।

‘ॐ मणि पदमे हूम्‌’ बौद्ध धर्म के लोग इस मंत्र को काफी पवित्र और शक्तिशाली मानते हैं, बौद्ध धर्म की महायान शाखा में यह मंत्र विशेष रूप से जाप किया जाता है।

श्रीकूर्म जयंती 15 मई रविवार को मनाई जाएगी और श्रीबुद्ध जयंती 16 मई सोमवार को मनाई जाएगी।

महंत रोहित शास्त्री (ज्योतिषाचार्य) अध्यक्ष श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट (पंजीकृत) संपर्कसूत्र :-9858293195,7006711011,9796293195

Editor JK News Updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Jammu: BJP councilor seeks removal of loudspeakers

Mon May 16 , 2022
A BJP councilor has moved a resolution seeking the removal of illegal loudspeakers in Jammu, confirmed a local civic body official on Saturday. While speaking to media persons today, Jammu Municipal Corporation Mayor Chander Mohan Gupta said, “Narottam Sharma, Councillor from Ward Number 3, (Mast Garh of Jammu) old city […]
%d bloggers like this: