Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/kuldevscc/public_html/jknewsupdates.com/wp-content/themes/default-mag/assets/libraries/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

नाग पंचमी का पर्व 02 अगस्त मंगलवार को : महंत रोहित शास्त्री ज्योतिषाचार्य।

पंचमी के दिन भूमि को नहीं खोदना चाहिए।

जम्मू कश्मीर : हमारे शास्त्रों में तिथि को बहुत महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। जिस तिथि के जो देवता बताये गये हैं उन देवताओं की पूजा उसी तिथि में करने से सभी देवता उपासक से प्रसन्न हो उसकी अभिलाषा को पूर्ण करते हैं,पंचमी तिथि के स्वामी नाग देवता हैं। इस दिन नाग देवता की पूजा करने से भय तथा कालसर्प योग शमन होता है,नाग पंचमी पर्व के विषय में श्रीकैलख वैदिक संस्थान ट्रस्ट के प्रधान महंत रोहित शास्त्री ने बताया श्रावण शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को नाग पंचमी का पर्व मनाया जाता है,श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि 02 अगस्त सन् 2022 ई. मंगलवार सुबह 05 बजकर 14 मिनट पर प्रारंभ होगी जो की अगले दिन यानी 03 अगस्त बुधवार को सुबह 05 बजकर 42 मिनट पर समाप्त होगी। सूर्योदय व्यापिनी श्रावण शुक्ल पक्ष पंचमी तिथि 02 अगस्त मंगलवार को है इसलिए नाग पंचमी का पर्व इस वर्ष सन् 2022 ई. मंगलवार 02 अगस्त को मनाया जाएगा। नाग पंचमी पर्व को लेकर मतभेद है जैसे राजस्थान एवं बंगाल में श्रावण कृष्ण पक्ष की पंचमी को यह पर्व मनाते हैं और उत्तर भारत में श्रावण शुक्ल पक्ष की पंचमी को और जम्मू (डुग्गर प्रदेश) में कुछ लोग भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की ऋषि पंचमी के दिन नागपंचमी का पर्व मनाते है। पंचमी तिथि के स्वामी नाग होने के कारण आप पंचमी तिथि को नाग देवता की पूजा अर्चना व्रत कर सकते हैं ज्यादातर लोग श्रावण शुक्ल की पंचमी को नाग पंचमी का पर्व मनाते हैं।

नाग पंचमी का त्यौहार हमें यह बताता हैं कि हमारे देश में सभी जीव जंतु को सम्मान दिया जाता हैं क्यूंकि प्रकृति के संतुलन के लिए सभी उत्तरदायी हैं,किसी एक की भी कमी से यह संतुलन बिगड़ जाता हैं। हिन्दू धर्म में नागों को प्राचीन काल से पूजनीय माना गया है। सभी सांप भी हमारे समाज का अभिन्न अंग है। इसीलिए इंसानों को नागों की रक्षा करनी चाहिए और इन्हें अकारण सताना नहीं चाहिए।

कोरोना महामारी के चलते घर में नाग देवता की पूजा अर्चना करें, अगर घर में नाग देवता की प्रतिमा है तो ठीक है नहीं तो शुद्ध मिट्टी के नाग बनाकर पूजन करें अथवा इस दिन नाग देवता की बाम्बी (वर्मी) में श्री फल ,दूध, दक्षणिया,मीठा रोट, फूल, फूल माला चढ़ाई याति हैं.‘ॐ कुरुकुल्ये हुं फट् स्वाहा’ श्लोक का उच्चारण कर सर्प का जहर उतारा जाता हैं,और सर्प के प्रकोप से बचने के लिए नाग पंचमी की पूजा की जाती हैं,नाग पंचमी का त्यौहार नागों का त्यौहार होता है,इस दिन पारंपरिक रूप से नाग देवता की पूजा करते है और परिवार के कल्याण के लिए उनके आशीर्वाद की मांग की जाती है, इस दिन नाग देवता के दर्शन किये जाते हैं ,इसके बाद पूजा के लिए घर की एक दीवार पर गेरू, जोकि एक विशेष पत्थर है, उससे लेप कर यह हिस्सा शुद्ध किया जाता हैं,यह दीवार कई लोगों के घर की प्रवेश द्वार होती हैं तो कई के रसोई घर की दीवार,इस छोटे से भाग पर कोयले एवं घी से बने काजल की तरह के लेप से एक चौकोर डिब्बा बनाया जाता हैं,इस डिब्बे के अन्दर छोटे छोटे सर्प बनाये जाते हैं, इस तरह की आकृति बनाकर उसकी पूजा की जाती हैं,कई परिवारों में यह सर्प की आकृति कागज पर बनाई जाती हैं कई परिवार घर के द्वार पर चन्दन से सर्प की आकृति बनाते हैं, एवं पूजा करते हैं,फिर ब्राम्हणो को भोजन करवाते हैं एवं जरूरतमंद लोगो को दान करें।

पंचमी के दिन भूमि को नहीं खोदना चाहिए,अगर कुंडली में राहु-केतु की स्थिति ठीक ना हो तो इस दिन नागदेवता की विशेष पूजा कर लाभ पाया जा सकता है।अगर आपको सर्प से डर लगता है,संतान प्राप्ति के लिए,व्यक्ति से सर्प की हत्या हो गई हो या सांप सपने में दिखाई देते हो तो हैं तो इस दिन नाग देवता की पूजा अर्चना करें,इस दिन नाग नागिन के जोड़े को जंगल मे सपेरों से मुक्त कराने एवं गायों को चारा डाले एवं व्रत रखे ‘ऊं नागेंद्रहाराय नम:’ का जाप करें।

नाग पंचमी पर नाग पूजन मंत्र :-

मंत्र ॐ भुजंगेशाय विद्महे,सर्पराजाय धीमहि, तन्नो नाग: प्रचोदयात्।।

नाग-पंचमी के दिन भगवान श्रीकृष्ण द्वारा कालिय-मर्दन लीला हुई थी और नागों को ब्रह्माजी द्वारा पंचमी के दिन वरदान दिए जाने व पंचमी के दिन ही आस्तीक मुनि द्वारा नागों की रक्षा किए जाने के कारण पंचमी-तिथि नागों को समर्पित है।

महंत रोहित शास्त्री (ज्योतिषाचार्य) प्रधान श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट (पंजीकृत) रायपुर ठठर जम्मू। संपर्क सूत्र 7006711011

Editor JK News Updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जम्मू कश्मीर में नाग देवताओ का इतिहास : महंत रोहित शास्त्री।

Tue Aug 2 , 2022
02 अगस्त मंगलवार नागपंचमी पर्व पर विशेष। जम्मू कश्मीर : नागलोक के राजा वासुकि जी भगवान शिव के परम भक्त है। भगवान शिव ने वासुकि की भक्ति से प्रसन्न होकर उन्हें अपने गणों में शामिल कर लिया था और भगवान शिव के साथ हमेशा के लिए हो गये। जम्मू की […]

You May Like

Breaking News

%d bloggers like this: