Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/kuldevscc/public_html/jknewsupdates.com/wp-content/themes/default-mag/assets/libraries/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है। :- ज्योतिषाचार्य महंत रोहित शास्त्री।

जम्मू कश्मीर :- नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है,कालरात्रि के विषय में ज्योतिषाचार्य महंत रोहित शास्त्री ने बताया देवी कालारात्रि को व्यापक रूप से माता देवी – काली, महाकाली, भद्रकाली, भैरवी, मृत्यू, रुद्रानी, चामुंडा, चंडी और दुर्गा के कई विनाशकारी रूपों में से एक माना जाता है।

मां कालरात्रि को खुश करने वाला मंत्र:

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कालरात्रि रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

अर्थ : हे माँ! सर्वत्र विराजमान और कालरात्रि के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूँ। हे माँ, मुझे पाप से मुक्ति प्रदान कर।

मां कालरात्रि के पूरे शरीर का रंग एक अंधकार की तरह है इसलिये शरीर काला रहता है। इनके सिर के बाल हमेशा खुले रहते हैं। गले में विद्युत की तरह चमकने वाली माला है। इनके तीन नेत्र हैं। ये तीनों नेत्र ब्रह्मांड के सदृश गोल हैं। इनसे विद्युत के समान चमकीली किरणें निःसृत होती रहती हैं। माँ की नासिका के श्वास-प्रश्वास से अग्नि की भयंकर ज्वालाएँ निकलती रहती हैं। इनका वाहन गर्दभ (गदहा) है। ये ऊपर उठे हुए दाहिने हाथ की वरमुद्रा से सभी को वर प्रदान करती हैं। दाहिनी तरफ का नीचे वाला हाथ अभयमुद्रा में है। बाईं तरफ के ऊपर वाले हाथ में लोहे का काँटा तथा नीचे वाले हाथ में खड्ग (कटार) है। माँ कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यंत भयानक है, लेकिन ये सदैव शुभ फल ही देने वाली हैं। इसी कारण इनका एक नाम ‘शुभंकारी’ भी है। अतः इनसे भक्तों को किसी प्रकार भी भयभीत अथवा आतंकित होने की आवश्यकता नहीं है।

महा सप्‍तमी पूजा की व‍िध‍ि।

दुर्गा पूजा में सप्तमी तिथि का काफी महत्व है,इस दिन से भक्त जनों के लिए देवी मां के द्वार खुल जाते हैं,पूजा शुरू करने के लिए माँ कालरात्रि के परिवार के सदस्यों, नवग्रहों, दशदिक्पाल को प्रार्थना कर आमंत्रित कर लें,सबसे पहले कलश और उसमें उपस्थित देवी-देवता की पूजा करें,इसके बाद माता कालरात्रि जी की पूजा कि जाती है,पूजा की विधि शुरू करने पर हाथों में फूल लेकर देवी को प्रणाम कर देवी के मंत्र का ध्यान किया जाता है,मंत्र है “देव्या यया ततमिदं जगदात्मशक्तया, निश्शेषदेवगणशक्तिसमूहमूर्त्या तामम्बिकामखिलदेवमहर्षिपूज्यां, भक्त नता: स्म विदाधातु शुभानि सा न:”. पूजा के बाद कालरात्रि मां को गुड़ का भोग लगाना चाहिए,भोग करने के बाद दान करे और एक थाली ब्राह्मण के लिए भी निकाल कर रखनी चाहिए।

महंत रोहित शास्त्री (ज्योतिषाचार्य) अध्यक्ष, श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट (पंजीकृत)रायपुर,ठठर बनतलाब जम्मू, पिन कोड 181123.
संपर्कसूत्र :-9858293195,7006711011,9796293195 Email : rohitshastri.shastri1@gmail.com

Editor JK News Updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

श्रीदुर्गाष्टमी एवं श्रीदुर्गा-नवमी के दिन कन्या पूजन के समय अपनी राशि अनुसार करें दान चमक जाएगा भाग्य :- महंत रोहित शास्त्री ज्योतिषाचार्य।

Sun Oct 2 , 2022
श्रीदुर्गाष्टमी 03 अक्टूबर सोमवार और श्रीदुर्गा- नवमी 04 अक्टूबर मंगलवार और विजयदशमी (दशहरा) 05 अक्टूबर बुधवार को मनाया जाएगा जम्मू कश्मीर : व्रतों और पर्वो की तिथि को लेकर कई बार असमंजस की स्थिति बन जाती है कि व्रत किस दिन रखे। आश्विन नवरात्र 26 सितंबर सोमवार से शुरू हुए […]

Breaking News

%d bloggers like this: