Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/kuldevscc/public_html/jknewsupdates.com/wp-content/themes/default-mag/assets/libraries/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

श्रीकालभैरवाष्टमी 16 नवंबर बुधवार को :- महंत रोहित शास्त्री।

भैरव आराधना से शत्रु से मुक्ति, संकट, कोर्ट-कचहरी के मुकदमों में विजय प्राप्त होती है।

जम्मू कश्मीर :- श्रीकालभैरवाष्टमी सन् 2022 ई. यानी इस वर्ष 16 नवंबर बुधवार को है इस संदर्भ में श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट के प्रधान महंत रोहित शास्त्री ज्योतिषाचार्य ने बताया कि मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष अष्टमी के दिन भगवान शिव,भैरव रूप में प्रकट हुए थे,भैरव अष्टमी तंत्र साधना के लिए अति उत्तम मानी जाती है भैरव भगवान महादेव का अत्यंत ही रौद्र, भयाक्रांत, वीभत्स,विकराल प्रचंड स्वरूप है। भैरवजी को काशी का कोतवाल भी माना जाता है। श्रीकालभैरव जी के पूजन से अनिष्ट का निवारण होता है। उनकी प्रिय वस्तुओं में काले तिल, उड़द,नींबू,नारियल,अकौआ के पुष्प,कड़वा तेल, सुगंधित धूप, जलेबी,पुए, कड़वे तेल से बने पकवान दान किए जा सकते हैं। भैरव अष्‍टमी के दिन भैरवजी के वाहन श्वान (कुत्ते) को भोजन और गुड़ खिलाने का विशेष महत्व है। दसों दिशाओं के नकारात्मक प्रभावों से मुक्ति मिलती है तथा संतान की प्राप्ति होती है

श्रीभैरव जी के पूजन से मनोवांछित फल देने वाली होती है, यह दिन साधक भैरव जी की पूजा अर्चना करके तंत्र-मंत्र की विद्याओं को पाने में समर्थ होता है मान्यता अनुसार इस दिन कालभैरव जी की पूजा व व्रत करने से समस्त विघ्न समाप्त हो जाते हैं, भूत, पिशाच एवं काल भी दूर रहता है।

महंत रोहित शास्त्री ने बताया श्रीकालभैरव उपासना क्रूर ग्रहों के प्रभाव को समाप्त करती है,भैरव देव जी के राजस, तामस एवं सात्विक तीनों प्रकार के साधना तंत्र प्राप्त होते हैं, भैरव साधना स्तंभन, वशीकरण, उच्चाटन और सम्मोहन जैसी तांत्रिक क्रियाओं के दुष्प्रभाव को नष्ट करने के लिए कि जाती है, इनकी साधना करने से सभी प्रकार की तांत्रिक क्रियाओं के प्रभाव नष्ट हो जाते हैं,इन्हीं से भय का नाश होता है और इन्हीं में त्रिशक्ति समाहित हैं, हिंदू देवताओं में भैरव जी का बहुत ही महत्व है यह दिशाओं के रक्षक और काशी के संरक्षक कहे जाते हैं,कहते हैं कि भगवान शिव से ही भैरव जी की उत्पत्ति हुई,यह कई रुपों में विराजमान हैं बटुक भैरव और काल भैरव यही हैं, इन्हें रुद्र भैरव, क्रोध भैरव, उन्मत्त भैरव, कपाली भैरव,भीषण भैरव,असितांग भैरव,चंड भैरव,रुरु भैरव संहार भैरव और भैरवनाथ भी कहा जाता है, नाथ सम्प्रदाय में इनकी पूजा का विशेष महत्व रहा है,भैरव आराधना से शत्रु से मुक्ति, संकट,कोर्ट-कचहरी के मुकदमों में विजय प्राप्त होती है, व्यक्ति में साहस का संचार होता है, इनकी आराधना से ही शनि का प्रकोप शांत होता है, रविवार और मंगलवार के दिन इनकी पूजा बहुत फलदायी है।

1.ॐ कालभैरवाय नमः।

2.ॐ भयहरणं च भैरवः।

3.ॐ हीं बटुकाय आपदुद्धारणाय कुरूकुरू बटुकाय हीं।

4.ॐ हं षं नं गं कं सं खं महाकाल भैरवाय नमः।

5.ॐ भ्रां कालभैरवाय फट्।

कर्ज से मुक्‍ति

कर्ज से मुक्‍ति पाने के लिए काल श्रीभैरव अष्‍टमी के दिन प्रातः स्‍नान कर शिवालय जाएं और वहां शिवलिंग पर बिल्‍वपत्र अर्पित करें। शिवलिंग के सामने आसन पर बैठकर रुद्राक्ष की माला से ‘ऊं ऋण्‍मुक्‍तेश्‍वर नम:’ मंत्र का जाप करें।

कैसे हुई कालभैरव की उत्पत्ति

धर्मग्रंथों में श्रीकालभैरव उत्पत्ति की बड़ी ही रोचक कथा है। एक बार सभी देवताओं ने ब्रह्मा जी और भगवान विष्‍णु से पूछा कि संसार में सबसे ज्‍यादा श्रेष्‍ठ कौन है। तब स्‍वयं को श्रेष्‍ठ साबित करने के लिए ब्रह्मा जी और विष्‍णु जी के बीच विवाद हो गया,इसके बाद सभी देवताओं ने वेदशास्‍त्रों से पूछा कि संसार में सबसे श्रेष्‍ठ कौन है। तो उन्‍हें उत्तर मिला कि जिनके भीतर चराचर जगत, भूत, भविष्‍य और वर्तमान समाया हुआ है अनादि अनंत और अविनाशी तो भगवान रुद्र ही हैं,वेदशास्‍त्रों का यह उत्तर सुनकर ब्रह्मा जी अपने पांचवे मुख से भगवान शिव के बारे में अपशब्‍द कहने लगे। ये सब सुनकर वेद दुखी हो गए। उस समय एक दिव्‍यज्‍योति के रूप में भगवान रुद्र प्रकट हुए,इसे देखकर ब्रह्मा जी ने कहा हे रुद्र तुम मेरे मुख से ही पैदा हुए हो, अधिक रुदन करने के कारण मैंने ही तुम्‍हारा नाम रुद्र रखा है। तुम मेरी सेवा में आ जाओ,इस बात पर भगवान शिव को क्रोध आ गया और उन्‍होंने अपनी शक्‍ति से भैरव को उत्‍पन्‍न कर कहा कि तुम ब्रह्मा पर शासन करो। उस दिव्‍य शक्‍ति भैरव ने अपने बाएं हाथ की सबसे छोटी अंगुली के नाखून से शिव के प्रति अपमान जनक शब्‍द कहने वाले ब्रहृमा जी के पांचवे मुख को ही काट दिया,इसके बाद काल भैरव ब्रह्म हत्‍या के पाप से मुक्‍ति पाने के लिए शिव जी का आदेश पर काशी आए। भगवान रुद्र ने इन्‍हें काशी का कोतवाल नियुक्‍त किया। आज भी काशी में काल भैरव को कोतवाल के रूप में पूजा जाता है। काल भैरव जी के दर्शन किए बिना विश्‍वनाथ के दर्शन करना अधूरा माना जाता है।

महंत रोहित शास्त्री (ज्योतिषाचार्य)
अध्यक्ष श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट(पंजीकृत) रायपुर ठठर जम्मू, पिन कोड 181123,पोस्ट आफिस रायपुर
संपर्कसूत्र :-9858293195,7006711011,9796293195

Editor JK News Updates

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

उत्पन्ना एकादशी का व्रत 20 नवंबर रविवार को : महंत रोहित शास्त्री ज्योतिषाचार्य।

Thu Nov 17 , 2022
जम्मू कश्मीर :- मार्गशीर्ष महीना बहुत पवित्र माना जाता है। मार्गशीर्ष मास लगते ही मनुष्य को स्नान आदि करके शुद्ध रहना चाहिए। इंद्रियों को वश में कर काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार, ईर्ष्या तथा द्वेष आदि का त्याग कर भगवान का स्मरण करना चाहिए। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियां होती हैं, […]

Breaking News

%d bloggers like this: